लखनऊ : ‘मी टू’ अभियान इस समय देश में जोरों पर है। पीड़ित युवती और महिलाओं ने लोकलाज छोड़ अपने साथ हुए यौनाचार और उत्पीड़न पर खुल कर बोलना शुरू कर दिया है। ये एक अच्छी पहल है। आखिर इन्हें कभी तो बोलना ही था तो अभी ही बोल दिया। हमारे समाज में सेक्स को टैबू समझा जाता है, लड़कियों को बचपन से ही समझया जाता है कि उसकी इज्जत कहां छुपी है। तभी तो वो अपने साथ हुए यौनाचार के बारे में खुल कर नहीं बोल पाती। क्योंकि ऐसा करने से उसकी इज्जत चली जाएगी। हमें तो उन्हें ये समझाना होगा कि सेक्स वैसा ही है जैसा हमारे लिए खाना-पीना और घूमना फिरना है, न कि कोई हौव्वा।

ये भी देखें :#MeToo: अकबर पर सरकार खामोश, स्मृति ईरानी ने कही बड़ी बात

सेक्स की सबसे जरुरी बात है दोनों का आपस में खुल कर बातचीत करना। चूंकि समाज में सेक्स को टैबू समझा जाता है इसलिए लोग सदियों से इसे सिर्फ अपनी यौन कुंठाओं को समाप्त करने का जरिया और बच्चा पैदा करने का तरीका मान बैठे हैं। कोई खुल कर नहीं बोलता। जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए ये एक नैसर्गिक विषय है। इस पर दोनों को खुलकर बोलना चाहिए फैंटसी और इच्छाओं के बारे में बात करनी चाहिए।

सेक्स से पहले ये जानना जरूरी है कि आपका पार्टनर आपके साथ सेक्स करना भी चाहता है या नहीं। हो सकता है कि वो आपके साथ ऐसा कुछ सोच ही न रहा हो और आपने दिल में अरमान सजा लिए हों। ऐसे में जो आप करेंगे वो ज़बरदस्ती होगी। खुले शब्दों में कहा जाए तो ये रेप होगा, जो उसे शारीरिक और मानसिक दोनों तौर पर तोड़ देगा। इसलिए पहले उससे सवाल करें कि उसके लिए सेक्स का मतलब क्या है? उसको सेक्स से क्या चाहिए? और किससे चाहिए?

अपने बारे में विश्लेषण करिए की क्या सेक्स सिर्फ आपके लिए सनक, कामोत्तेजना और इच्छाओं को मारना भर है या फिर आनंद के चरम तक जाने का जरिया है। सेक्स के दौरान जो भी करें आपसी सहमति से करें क्योंकि तब कुछ भी गलत नहीं होगा।

ये भी देखें :#MeToo पर एक्टर चंकी पाण्डेय बोले- कुछ लोगों की वजह से पूरी इंडस्ट्री को बदनाम करना गलत

कभी मौका निकाल कर अपने भीतर झांकें की कहीं आपमें ठरक तो नहीं जाग रही। यदि ऐसा है तो संभल जाना ही बेहतर होगा। क्योंकि ऐसे में आप ऑफिस, ट्रेन, प्लेन या किसी सार्वजनिक स्थल पर भी होंगे तो वहां मौजूद महिला आपको सिर्फ सेक्स ऑब्जेक्ट के तौर पर ही नजर आएंगी।

अगर आप की सोच ये है कि आपने पहली बार जिस पैशन के साथ सेक्स किया था, वही पैशन लंबे समय और अन्य पार्टनर के साथ भी जारी रहने वाला है तो ऐसा सोचना गलत है क्योंकि सेक्स बेहद सामान्य और हर दिन होने वाली चीज है।

हम सेक्स को अपने से अलग-थलग नहीं कर सकते। ये एक अटल सत्य है जिसे सभी को मानना चाहिए। लेकिन इसके साथ भावनाएं भी जुड़ी होनी चाहिए। क्योंकि हम हर एक के साथ तो सेक्स नहीं कर सकते।