‘पद्मावती’ की रिलीज नहीं रुक सकती : कह रही हैं दीपिका पादुकोण

0
184
फिल्म 'पद्मावती' को लेकर छिड़ा राजपूताना यद्ध अब और गहरा गया है। बिहार समेत पांच राज्यों में इस फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाए जीने के बीच ही ब्रिटेन के सेंसर बोर्ड ने इसे बिना काट-छांट के अपनी मंजूरी दे दी है। इधर भारत के सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वह फिल्म को लेकर किसी प्रकार की धरना नहीं दे सकता क्योंकि इससे सेंसर बोर्ड के निर्णय पर असर पड़ेगा। इसी बीच जयपुर के नाहरगढ़ किले पर एक व्यक्ति का शव मिला है, जिसे इस फिल्म से ही जोड़ कर देखा जा रहा है क्योंकि

नई दिल्ली : एक दशक पहले दीपिका पादुकोण ने जब बॉलीवुड में आगाज किया था तो उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह एक दिन संजय लीला भंसाली की फिल्मों में हीरोइन बनेंगी।

अब संजय लीला भंसाली के साथ की अपनी तीसरी फिल्म ‘पद्मावती’ की रिलीज का इंतजार कर रहीं अभनेत्री को पूर भरोसा है कि फिल्म विवादों से उबर कर सिनेमाघरों में प्रदर्शित होगी और मनोरंजन उद्योग के लिए एक ‘बड़ी लड़ाई’ जीतेगी। इस फिल्म में दीपिका राजपूतनी रानी पद्मावती की भूमिका में हैं।

दीपिका ने कहा, एक महिला के रूप में मुझे इस फिल्म का हिस्सा होने और कहानी को बताने पर गर्व है, जिसे बताए जाने की जरूरत है और इसे आज बताए जाने की जरूरत है।”

ये भी देखें : ‘पद्मावती’ की कहानी सलीम अनारकली जितनी नकली : जावेद अख्तर

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्मकार भंसाली पर इतिहास से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाते हुए कई नेताओं, संगठनों ने फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने की मांग की है। दीपिका को पूरा भरोसा है कि फिल्म अपनी तय तिथि एक दिसंबर को ही रिलीज होगी।

फिल्म की रिलीज के पहले मचे बवाल पर अभिनेत्री ने कहा, “यह भयावह है, यह बिल्कुल भयावह है। इससे हमें क्या मिला? और एक राष्ट्र के रूप में हम कहां पहुंच गए हैं? हम आगे बढ़ने के बदले पीछे हुए हैं।”

उन्होंने कहा, “हमारी जवाबदेही सिर्फ सेंसरबोर्ड के प्रति है और मैं जनाती हूं और मेरा मानना है कि फिल्म को रिलीज होने से कुछ भी नहीं रोक सकता।”

उन्होंने कहा कि फिल्म उद्योग से मिल रहा समर्थन इस बात का प्रतीक है कि यह सिर्फ ‘पद्मावती’ के बारे में नहीं है, बल्कि यह फिल्म उद्योग एक बड़ी लड़ाई लड़ रहा है।

फिल्म में दीपिका मुख्य भूमिका में हैं। उन्हें एक ऐसा मौका मिला है, जो हर अभिनेत्री को करियर में नसीब नहीं हो पाता।

उन्होंने कहा, “मैं इसका जश्न मनाती हूं।”

दिलचस्प बात यह है कि नवंबर का महीना दीपिका के 10 साल के फिल्मी करियर के लिए उल्लेखनीय है। उनकी पहली फिल्म ‘ओम शांति ओम’ नौ नवंबर को रिलीज हुई थी और अभी चार साल पहले 15 नवंबर को संजय लीला भंसाली के साथ उनकी फिल्म ‘राम-लीला’ रिलीज हुई थी।

अभिनेत्री ने कहा कि जब उन्होंने बॉलीवुड में ‘ओम शांति ओम’ से आगाज किया था और भंसाली की ‘सांवरिया’ रिलीज हुई थी तो वह सोचा करती थीं कि उन्होंने (भंसाली) उन्हें फिल्म में क्यों नहीं लिया।

दीपिका ने कहा, “मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं एक दिन भंसाली की हीरोइन बनूंगी।”

loading...

SHARE
Previous articleबेटे ने मांगा आशीर्वाद तो पप्पा बोले-तेजस्वी बच्चा नहीं, आपका भी चच्चा है
Next articleएनजीटी ने ऑड-ईवन में छूट पर याचिका को ठुकराया, ये मजाक है !

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं।

यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।