कानपुर: कानपुर में एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे एक्टर चंकी पाण्डेय और अमीषा पटेल ने अपनी अदाओं से शहर के लोगों का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की। मी टू कैम्पेन पर बोलते हुए कहा कि इसे रोक तो नहीं सकते है । इस तरह की चीजें नहीं होनी चाहिए, लेकिन जब मामला इतना आगे बढ़ जाता है तो किसी जिम्मेदार अथॉरिटी को फैसला करना चाहिए।

बॉलीवुड इंडस्ट्री में इन दिनों एक्ट्रेस सेक्सुअल हैरेसमेंट के दबे हुए मामलों पर खुलकर बोल रही है। फिल्म एक्टर चंकी पाण्डेय भी आज कानपुर में इस मामले पर बोलते हुए नजर आये। मीडिया से बात करते हुए कहा कि इसमें हम लोग बोलने वाले कौन होते है। जो जितना ज्यादा बोले वो बुरा है और जो कम बोले वो भी बुरा है।

यह बहुत ही नाजुक मामला है। इसको लीगली प्रोसीड करके हल करना चाहिए। जब तक आप दोनों साइड की स्टोरी नहीं सुनेंगे तब तक कुछ भी नहीं कह सकते है। किसी एक या दो लोगों की वजह से पूरी फिल्म इंडस्ट्री को बदनाम करना सही नहीं है।

वहीं जब फिल्म अभिनेत्री अमीषा पटेल से भी मी टू पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने इस पर बयान देने से किनारा कर लिया।

ये भी पढ़ें…#MeToo कैम्पेन ने पकड़ी धार, रोज जुड़ रहे नये पन्ने, चर्चा में हैं ये हस्तियां