गोरखपुर: प्रदेश सरकार के सख्‍त रवैये के खिलाफ एकजुट हुए प्राइवेट स्‍कूल संचालकों ने जल सत्‍याग्रह छेड़ रखा था। गुरूवार को कई सत्याग्रहियों की तबियत बिगड़ने पर पुलिस ने सख्‍ती से इस जल सत्‍याग्रह को बंद करवा दिया। इसके साथ ही साथ इस सत्‍याग्रह की अध्‍यक्षता करने वाले संघ के संस्‍थापक जय प्रकाश मिश्र को भी हिरासत में ले लिया।

जमकर हुई नारेबाजी 

वित्तविहीन प्रबंधक संघ द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन के 36 में दिन तथा जल सत्याग्रह के छठवें दिन जिला प्रशासन ने जबरिया जल सत्याग्रहियों के संघ के संस्थापक अध्यक्ष जयप्रकाश मिश्र को हिरासत में लेते हुए राप्ती नदी के किनारे चल रहे जल सत्याग्रह को खत्म कराया। इस दौरान जलसत्याग्रहियो ने प्रद्रेश सरकार सरकार व जिला प्रसाशन के खिलाफ जमकर नारे-बाजी की और कहा की जल्द ही नई रणनीति के तहत हम प्रदेश सरकार के इस फरमान के खिलाफ सड़को पर उतरेंगे| कल भी जल सत्याग्रह के दौरान दो सत्याग्रहियों की तबीयत अचानक बिगड़ने से उन्हें आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिस के विरोध में संघ के संस्थापक अध्यक्ष जयप्रकाश मिश्र ने यह आवाहन किया था कि अगर जिला प्रशासन व प्रदेश सरकार उनकी मांगों पर विचार विमर्श नहीं करता है तो आज वह जल समाधि लेंगे ।

इस घोषणा से जिला प्रशासन के होश फाख्ता हो गए और आनन-फानन में जिला प्रशासन ने मौके पर पहुंचकर जल सत्याग्रह का नेतृत्व कर रहे संघ के अध्यक्ष जयप्रकाश मिश्र को जबरिया हिरासत में ले लिया और जल सत्याग्रह को खत्म कराया।

आपको बता दें कि आज सुबह जल सत्याग्रह के दौरान एक जलसत्यग्रही की तबीयत अचानक बिगड़ गई थी। सत्‍याग्रही को जिला प्रशासन ने कब्जे में लेते हुए जिला अस्पताल में इलाज के लिए भिजवाया।

गौरतलब है कि वित्तविहीन प्रबंधक संघ द्वारा प्रदेश सरकार के आदेशों के खिलाफ पिछले 36 दिनों से आन्दोलन किया जा रहा था, जल सत्याग्रहियों की मांग थी कि जूनियर तक के निजी स्कूलों को सरकार द्वारा मान्यता के लिए समय दिया जाए और जो शक्ति प्रदेश सरकार निजी स्कूलों के प्रबंधकों पर कर रही है उसे बंद किया जाए।