रिलायंस इंडस्ट्रीज पहली बार बनी 5 लाख करोड़ रुपये की कंपनी

0
121

मुंबई: उद्योगपति मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) ने पहली बार सोमवार को 5 लाख करोड़ रुपये के बाजार पूंजीकरण का आंकड़ा पार कर लिया। बाजार विश्लेषकों के मुताबिक आरआईएल टाटा समूह के बाद दूसरी ऐसी कंपनी है जिसने इस आंकड़े को हासिल किया है।

टाटा समूह की बहुराष्ट्रीय आईटी कंपनी टाटा कंसलटेंसी ने भी 5 लाख करोड़ रुपये के बाजार पूंजीकरण का आंकड़ा पार कर लिया है।

ये भी देखें:Closing Bell: सेंसेक्स 54 अंक ऊपर, निफ्टी 9,915 की रिकॉर्ड उंचाई पर

सोमवार को रिलायंस का बाजार पूंजीकरण 5,05,458.09 करोड़ रहा। बीएसई (बंबई स्टॉक एक्सचेंज) पर कंपनी के शेयर 1.33 फीसदी या 20.30 रुपये की बढ़ोतरी के साथ 1,551.35 पर बंद हुआ, जबकि पिछले शुक्रवार को यह 1,531.05 पर बंद हुआ था।

ट्रेडबुल्स के निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी ध्रुव देसाई ने कहा, “रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपनी ट्रेडिंग इतिहास में पहली बार 5 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार किया। इस आंकड़े तक पहुंचने वाली टीसीएस के बाद यह दूसरी कंपनी है।”

उन्होंने कहा, “आरआईएल के शेयर जुलाई में 11 फीसदी बढ़े और सालाना आधार पर इनमें 41 फीसदी की बढ़ोतरी हुई।”

एचडीएफसी सिक्यूरिटीज के प्रमुख (खुदरा शोध) दीपक जासानी ने कहा, “रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल के अपने पारंपरिक कारोबार के अलावा जो अच्छी तरह से चल रही है, अब दूरसंचार और खुदरा कारोबार भी धीरे-धीरे लाभ कमाना शुरू कर देंगे, क्योंकि वे तेजी से अपना नुकसान कम कर रहे हैं।”

कंपनी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के आंकड़े 20 जुलाई को जारी करेगी।

SHARE
Previous articleअभिनेता दिलीप की जमानत याचिका पर गुरुवार को सुनवाई
Next articleलखनऊ: शिक्षा विभाग में तबादले, 5 वरिष्ठ अधिकारी इधर से उधर
आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।