RBI ने फिर नहीं घटाई ब्याज दरें, सस्ते कर्ज के लिए अभी और करें इंतजार

0
185
RBI ने फिर नहीं घटाई ब्याज दरें, सस्ते कर्ज के लिए अभी और करें इंतजार

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक आफ इंडिया की मौद्रिक नीति समित‍ि ने रेपो रेट में एक बार फिर कोई बदलाव नहीं किया जिससे आम लोगों का सस्ते कर्ज के लिए इंतजार खत्म् नहीं हुआ। मौद्रिक नीति में बदलाव नहीं होते देख शेयर बाजार भी गिर गया। आरबीआई ने रेपो रेट को 6 फीसदी पर बरकरार रखा है। अब सस्ते कर्ज के लिए फरवरी तक इंतजार करना पड़ेगा। इससे पहले अक्टूबर में भी आरबीआई की मौद्रिक समिति ने रेपो रेट में कोई कटौती नहीं की थी।

एमपीसी की तरफ से रेपो रेट में कटौती न किए जाने के लिए महंगाई को जिम्मेदार बताया है। एमपीसी का कहना है, कि महंगाई को 4 फीसदी तक बांधे रखने ,और ग्रोथ को सपोर्ट करने के लिए यह फैसला लिया गया है। इसी वजह से नीतिगत दरों में कोई बदलाव न करने का फैसला लिया गया है।

ये भी पढ़ें …शेयर बाजार: RBI की नीति, आर्थिक आंकड़े तय करेंगे बाजार की चाल

विकास दर के अनुमान में भी कोई बदलाव नहीं
आरबीआई ने अर्थव्यवस्था की विकास दर के अनुमान में भी इस बार कोई बदलाव नहीं किया है। इसे 6.7 प्रतिशत पर ही रखा गया है। पिछली मौद्रिक नीति समिति की बैठक में विकास दर को 7.3 प्रतिशत से घटाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया गया था। आरबीआई ने अगस्त में ही 7.3 प्रतिशत का अनुमान जारी किया था।

ये भी पढ़ें …बैंक खातों को आधार से जोड़ना, RBI का नहीं सरकारी फैसला

महंगाई 4.3 से 4.7 प्रतिशत के बीच रहेगी
आरबीआई ने महंगाई के अनुमान में बदलाव कर दिया है। उसने कहा है, कि दिसंबर और मार्च की तिमाही में महंगाई 4.3 से 4.7 प्रतिशत के बीच रहेगी। आरबीआई ने आगे कहा, कि हाल के दिनों में सब्ज‍ियों के दाम में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। हालांकि, आने वाले वक्त में इससे थोड़ी राहत मिलने की उम्मीद है। दालों की कीमत भी कम होने लगी हैं। जीएसटी परिषद ने भी कई उत्पादों के रेट घटाकर कम कर दिया है। इन सबका फायदा आने वाले दिनों में महंगाई कम होने के तौर पर मिल सकता है।

ये भी पढ़ें …RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन को राज्यसभा भेजना चाहती है AAP

कर्ज सस्ते होने की उम्मीद फ़रवरी तक लटकी
आरबीआई की तरफ से रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं हुआ हुआ है जिससे सस्ते कर्ज का इंतजार और बढ़ गया है। इसके बाद अब सीधे फरवरी में आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की मीटिंग होनी है। कर्ज सस्ते होने की उम्मीद अब फरवरी तक लटक गई है।

जानें, क्या है रेपो रेट?
रिवर्स रेपो के ही तहत देश का केंद्रीय बैंक, बैंकों से लोन लेता है। जिस तरह आप बैंक से लोन लेने पर इस पर ब्याज चुकाते हैं, उसी तरह आरबीआई भी बैंकों से पैसे लेने के लिए उन्हें प्रोत्साहन राशि (रिवर्स रेपो रेट) देता है। रेपो रेट जितना ज्यादा होगा, बैंकों को उतना ज्यादा फायदा मिलेगा।

रेपो रेट में बदलाव नहीं होने से शुरुआती कारोबार में बाजार में गिरावट रही। बुधवार को सेंसेक्स 105.70 अंक टूट गया वहीं, निफ्टी में 30 अंकों की गिरावट हुई ।

loading...

SHARE
Previous articleकाम का नया स्टाइल वर्क फ्रॉम होम, जानते हैं इसके फायदे व नुकसान
Next articleट्रंप येरुशलम को राजधानी के रूप में देंगे मान्यता, अरब नेताओं का विरोध

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये ‘कृषि जागरण’ पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत ‘इंडिया न्यूज़’ ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र ‘आज समाज’ के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।