प्रियंका वडरा का आरोप: नीरव मोदी का भाई PM के साथ गया था डावोस

0
401
प्रियंका वडरा का आरोप: नीरव मोदी का भाई PM के साथ गया था डावोस
प्रियंका वडरा का आरोप: नीरव मोदी का भाई PM के साथ गया था डावोस

नई दिल्ली: जवाहरात डिजाइनर नीरव मोदी द्वारा की गई 11700 करोड़ की धोखाधड़ी व ठगी के मामले में कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के कूद पड़ने से एक नया ट्विस्ट आ गया है। प्रियंका गांधी वडरा ने ट्विटर पर एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखा है कि प्रधानमंत्री के साथ डावोस जाने वाले दूसरे मोदी इस पिक्चर में दिखाई दे रहे हैं। ये नीरव मोदी के छोटे भी हैं जिनकी शादी मुकेश अंबानी की भतीजी से हुई है। नीरव मोदी पीएनबी घोटाले के मुख्यकर्ताधर्ता हैं।इसके बाद उन्होंने तंज कसा है कि सारी मित्रों प्रधानसेवक अभी भी 15 लाख खातों में डालने का वादा नहीं पूरा कर सके हैं

केंद्रीय जांच ब्यूरो ने पंजाब नेशनल बैंक की ओर से अरबपति जवाहरात डिजाइनर नीरव मोदी और एक जवाहरात कंपनी के खिलाफ दस हजार करोड़ रुपए के फ्राड लेन-देन की रिपोर्ट दर्ज की है। यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को दी।

सूत्रों ने बताया कि मंगलवार की रात सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ने यह गड़बड़ी पकड़ी और एजेंसी को शिकायतें दर्ज करायीं। शिकायतें बैंक की ब्रांचों से दस हजार करोड़ के कूटरचित लेन देन से संबंधित हैं। सूत्रों ने कहा कि आरोपों को देखने के बाद भविष्य की कार्रवाई पर जल्द ही निर्णय किया जाएगा।

यह भी पढ़ें ……PNB की मुंबई ब्रांच ने पकड़ा 1.77 अरब डॉलर का फर्जीवाड़ा, जांच शुरू

एजेंसी ने इससे अधिक जानकारी देने से इनकार करते हुए कहा कि इससे जांच प्रभावित होगी। एजेंसी ने कहा कि मोदी पहले से ही पंजाब नेशनल बैंक की एक शिकायत पर सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं। नीरव मोदी, उनके भाई, पत्नी और कारोबारी साझेदार पर कथित तौर पर 280 करोड़ रुपए से ज़्यादा की धोखाधड़ी करने का पंजाब नेशनल बैंक ने आरोप लगाया था। बैंक ने आरोप लगाया था कि नीरव, उनके भाई निशाल, पत्नी अमी और मेहुल चीनूभाई चोकसी ने बैंक के अधिकारियों के साथ साज़िश की और बैंक को नुकसान पहुंचाया। ये सभी डायमंड आर यूएस, सोलर एक्सपोर्ट और स्टेलर डायमंड्स में भागीदार हैं

जानिये कौन है अरबों का घोटालेबाज नीरव मोदी

अरबों रूपये के फ्राड में फंसे नीरव मोदी का नीरव मोदी नाम से ही एक वैश्विक ज्वेलरी हाउस है। नीरव मोदी ने अपने ही नाम से 2010 में इस ग्लोबल डायमंड ज्वेलरी हाउस की नींव रखी थी। कंपनी का मुख्यालय भारत के मुंबई में है। इस कंपनी के डिजाइनर ज्वेलरी बूटीक लंदन, न्यूयॉर्क, लास वेगास, हवाई, सिंगापुर, बीजिंग और मकाऊ में हैं। भारत में इनके स्टोर मुंबई और दिल्ली में है।

नीरव डायमंड का कारोबार करने वाले परिवार से आते हैं और बेल्जियम के एंटवर्प शहर में उनका पालन-पोषण हुआ है। बचपन से ही नीरव की दिलचस्पी आर्ट और डिजाइन में थी और वो यूरोप के अलग-अलग म्यूज़ियम में आते-जाते थे। भारत में जाकर बसने और डायमंड ट्रेडिंग बिज़नेस के सभी पहलुओं की ट्रेनिंग लेने के बाद साल 1999 में उन्होंने फ़ायरस्टार जिसे फायरस्टोन करके जाना जाता है के नाम से अपनी कंपनी की नींव रखी। ये एक डायमंड सोर्सिंग और ट्रेडिंग कंपनी है। साल 2008 में नीरव के एक करीबी दोस्त ने उन्हें ईयररिंग बनाने को कहा।

इसे बनाने के लिए सही हीरे चुनने और डिजाइन करने में उन्होंने कई महीने लगाए और तभी उन्हें अहसास हुआ कि वो ज्वेलरी को लेकर जुनून और कला दोनों रखते हैं। तभी उन्होंने ब्रांड बनाने की ओर कदम उठाया।  इसके अलावा उन्हें अपनी मां से काफ़ी प्रेरणा मिलती है, जो इंटीरियर डिज़ाइनर थीं।

साल 2010 में वो क्रिस्टी और सॉदबी के कैटालॉग पर जगह बनाने वाले पहले भारतीय ज्वेलर बने। साल 2013 में वो फ़ोर्ब्स लिस्ट ऑफ़ इंडियन बिलिनेयर में आए और तब से अपनी जगह बनाए हुए हैं।

नीरव मोदी कंपनी के आभूषण केट विंस्लेट, रोज़ी हंटिंगटन-व्हाटली, नाओमी वॉट्स, कोको रोशा, लीज़ा हेडन और एश्वर्य राय जैसे भारतीय और अंतरराष्ट्रीय स्टाइल आइकन पहनते हैं।साल 2014 में नीरव मोदी ने दिल्ली के डिफ़ेंस कॉलोनी में पहला फ्लैगशिप स्टोर खोला और साल 2015 में मुंबई के काला घोड़ा में स्टोर खुला। साल 2015 में नीरव मोदी कंपनी ने न्यूयॉर्क सिटी और हॉन्गकॉन्ग में बूटीक खोले। लंदन की बॉन्ड स्ट्रीट और एमजीएम मकाऊ में उनके बूटीक स्टोर हाल में खुले हैं।

जानकारी के अनुसार, साल 2010 में खुदरा व्यवसाय की देर से की गई शुरुआत के बावजूद नीरव मोदी ने तेजी से हॉलीवुड सितारों के भारतीय जूलर के रूप में खूब नाम कमाया। नीरव मोदी ब्रांड के हीरे के जेवरात पहनकर कैट विंस्लट और डकोरा जॉन्सन तथा टराजी पी हेन्सन तक रेड कार्पेट पर चल चुकी हैं।साल 2017 में प्रियंका चोपड़ा उनके कंपनी की ब्रांड एम्बेस्डर बनीं। साल 2013 तक नीरव अरबपतियों की फोर्ब्स लिस्ट में भी जगह बना चुके थे।

Facebook Comments