दिल्ली का नंगा सच : 2016 में हर दिन 11 महिलाओं का अपहरण

0
303

नई दिल्ली : एक एनजीओ प्रजा फाउंडेशन द्वारा आरटीआई के तहत मांगी गईं जानकारी में सामने आया है कि साल 2016 में दिल्ली में हर रोज तकरीबन 11 महिलाओं का अपहरण हुआ था। प्रजा फाउंडेशन ने जानकारी साझा करते हुए बताया कि 2016 में शहर में दर्ज अपहरण के 50 प्रतिशत से अधिक मामले महिलाओं से जुड़े थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक गत वर्ष दर्ज अपहरण के 6,707 मामलों में से 4,101 मामले महिलाओं से जुड़े थे।

आकड़ें दिल दहलाने वाले 

वर्ष 2015 में दिल्ली में 7,937 मामले दर्ज किए गए थे। इनमें से 792 मामले बालिग लोगों के अपहरण से जुड़े हुए थे और कुल मामलों के 52.78 प्रतिशत में महिलाएं शामिल थीं। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल दिल्ली में हर रोज करीब दो बच्चों का यौन उत्पीड़न हुआ।

एनजीओ द्वारा जो आकड़ें जारी किए गए उनके अध्यन से ये बात सामने आई कि पिछले साल रेप के कुल 2,181 मामले दर्ज हुए थे, उनमें से 977 मामले पॉक्सो के अंतर्गत दर्ज हुए थे।

वहीं 2015 में रेप के 2,338 मामले दर्ज हुए जिनमें 1,149 पीड़ित बच्चे थे। जबकि दिल्ली में छेड़खानी के 3,969 मामले दर्ज हुए इनमें 590 मामले दक्षिण दिल्ली के थे। 2015 में दक्षिण दिल्ली में छेड़खानी के 485 मामले सामने आए थे। जबकि 2014 में 862 मामले दर्ज हुए। हैरत की बात तो ये है कि 2016 में छेड़खानी के 11 मामले दिल्ली एयरपोर्ट पर दर्ज किए गए।

Facebook Comments
Previous articleहवालात से फरार 25 हजार का इनामी एक साल बाद गिरफ्तार
Next articleअमेठी : मेमो ट्रेन की बोलेरो से टक्कर, 4 की मौत, दो घायल
आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं।यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।