बजट 2019

शेयर बाजार ने बजट को हाथोंहाथ लिया। आयकर में 5 लाख तक की छूट के साथ ही निवेशकों का उत्साह बढ़ गया और कुछ ही पल में सेंसेक्स में 452 अंकों का उछाल दिखा। वहीं इस दौरान निफ्टी 144 अंकों के उछाल के साथ 10,907 अंकों पर पहुंचा।

गौरतलब है कि अंतरिम बजट में आयकर छूट को ढाई लाख रुपये से बढ़ाकर सीधे पांच लाख रुपये तक कर दिया है। वहीं किसानों को सालाना 6 हजार रुपये देने का भी ऐलान किया है। मजदूरों के लिए पेंशन योजना की बात बजट में कही है।

मायावती ने कहा कि केन्द्र सरकार ने खासकर गरीबों, मजदूरों व किसानों आदि के नाम पर अभी तक जो भी योजनाएं घोषित की हैं उन सभी से इसके असली जरुरतमन्दों व हकदारों को कम तथा बड़े-बड़े पूँजीपतियों व धन्नासेठों को ही ज्यादा लाभ पहुँचा है।

मोदी सरकार के मौजूदा कार्यकाल का आज आखिरी बजट पेश किया गया। अरुण जेटली की अनुपस्थिति में पीयूष गोयल बतौर वित्त मंत्री इसे पेश किया। इसमें नए वित्त वर्ष के शुरुआती चार महीने के खर्च के लिए संसद से मंजूरी ली गई है। बजट सत्र में पीयूष गोयल ने रेरा का जिक्र का करते हुए मोदी सरकार की पीठ थपथपाई है।

इसके अन्तरगत 15000 रुपये तक मासिक आय वाले लोगों के लिए न्यूनतम 3000 रुपये की पेंशन मिलेगी। उन्हें 100 रुपये प्रति महीने का योगदान करना होगा। इतना ही योगदान सरकार करेगी। असंगठित क्षेत्र के 10 करोड़ कर्मचारियों को इसका लाभ मिलने की उम्मीद है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल में ही कहा था कि कांग्रेस सरकार के आने के बाद वो गरीबों को मिनिमम गारंटीड इनकम देंगे। सूत्रों के मुताबिक इसके बाद से ही मोदी सरकार सक्रीय हो गई और विभागों को काम सौंप दिया गया कि यदि हम इस योजना को लागू करते हैं तो सरकार के ऊपर कितना बोझ पड़ेगा और बीजेपी को चुनावों में इसका कितना फायदा मिल सकता है। 

आज मोदी सरकार अपने कार्यकाल का आखिरी बजट अंतरिम बजट के रूप में पेश करने वाली है। जिसे अर्थशास्त्री चुनावी बजट मान रहे हैं। आम चुनाव से ठीक पहले ये बजट लोकलुभावन हो सकता है। लेकिन यदि आप केंद्र सरकार के कार्यकाल पर नजर डालें तो वो बड़े निर्णय लेने के लिए पहचान बना चुकी है।

लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार आज अपना अंतरिम बजट पेश करने जा रही है।अंतरिम वित्त मंत्री पीयूष गोयल आज मोदी सरकार का अंतरिम बजट पेश करेंगे।सुबह 11 बजे पीयूष गोयल लोकसभा में बजट पेश करेंगे।ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि सरकार इस बजट में कुछ बड़े ऐलान कर सकती है।

मोदी सरकार शुक्रवार को अपना अंतरिम बजट पेश करने जा रही है। मौसम चुनावी है, लिहाजा लोक-लुभावन बजट की चर्चा हो रही है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बुनकर भी उम्मीद भी निगाहों से बजट की ओर देख रहे हैं। लंबे समय से मंदी की मार झेल रहे बुनकरों को उम्मीद है कि जाते-जाते सरकार उनके खाते में कुछ देकर जाएगी।

आपको बता दें कि इस बार अर्थव्यवस्था की हालत को लेकर कोई आर्थिक सर्वेक्षण नहीं पेश किया जाएगा। आगामी चुनाव के बाद मई में जब नई सरकार का गठन किया जाएगा उसके बाद ही सरकार जुलाई में आर्थिक सर्वेक्षण के साथ फुल बजट पेश करेगी।