Budget Reactions: राहुल, अखिलेश और मायावती ने दी ऐसी प्रतिक्रियाएं…

2019 के आम चुनाव से पहले केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने अंतरिम बजट पेश किया। इस बजट में किसानों और मध्यम वर्ग को ध्यान में रखते हुए कई बड़े ऐलान किए गए। ऐसे में इस बजट को लेकर राजनीतिक और आर्थिक दुनिया के कई दिग्गज अपना-अपना रिएक्शन पेश कर रहे हैं।

नई दिल्ली: 2019 के आम चुनाव से पहले केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने अंतरिम बजट पेश किया। इस बजट में किसानों और मध्यम वर्ग को ध्यान में रखते हुए कई बड़े ऐलान किए गए। ऐसे में इस बजट को लेकर राजनीतिक और आर्थिक दुनिया के कई दिग्गज अपना-अपना रिएक्शन पेश कर रहे हैं। तो आइये जानते है बजट 2019 पर क्या है राजनेताओं की राय:-

-अमित शाह ने कहा है कि देश के लिए इससे बेहतर बजट नहीं हो सकता। इस बजट से किसानों व मजदूरों के साथ ही मिडिल क्लास की उम्मीदें पूरी होंगी। 75,000 करोड़ रुपये की लागत से सरकार प्रधानमंत्री किसान निधि योजना को लागू करेगी। इस योजना से उन किसानों को भी लाभ होगा जो कर्ज नहीं लेते हैं।

ये भी पढ़ें…बजट भाषण के बाद शेयर मार्केट में भारी उछाल, सेंसेक्स में 452 अंकों की तेजी

-योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि बजट में समाज के सभी वर्गों का ख्याल रखा गया है। बजट में किसान, मिडिल क्लास, गरीब और महिलाएं सबका ध्यान रखते हुए उनके विकास की कोशिश की गई है। यह नए भारत के सपने को साकार करेगा। इतने बेहतरीन बजट के लिए प्रधानमंत्री मोदी बधाई के पात्र हैं।

-राहुल गांधी ने कहा है कि यह मोदी सरकार का आखिरी जुमला बजट है। मोदी की अक्षमता और अहंकार के 5 सालों ने हमारे किसानों की जिंदगी बर्बाद कर दी है। उन्हें प्रतिदिन 17 रुपये देना उनकी बेइज्जती है।

-पी.चिदम्बरम ने कहा है कि अंतरिम वित्त मंत्री ने इतना लंबा अतंरिम बजट पेश कर लोगों के धैर्य की परीक्षा ली है। यह मेरी याद में अब तक का सबसे लंबा अंतरिम बजट है। यह अंतरिम बजट नहीं बल्कि चुनाव प्रचार का भाषण था। सरकार अपने राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पूरा करने से चूक गई है जिसकी मैंने पहले ही चेतावनी दी थी।

ये भी पढ़ें…बजट पर अखिलेश बोले- 5 सालों की पीड़ा के बाद युवा BJP से मुक्ति चाहते हैं, दिखावटी ऐलान नहीं

-अखिलेश यादव ने कहा है कि एक साल के बजट में दस साल आगे की झूठी बात है। बहुसंख्यक भूमिहीन किसानों और श्रमिकों के लिए इसमें कुछ भी राहत नहीं है। पांच सालों की प्रताडऩा और पीड़ा के बाद देश के किसान, व्यापारी-कारोबारी, बेरोजगार युवा अब बीजेपी से मुक्ति चाहते हैं। दिखावटी ऐलान नहीं।

-मायावती ने कहा है कि यह मोदी सरकार का जुमलों से भरा बजट है। पिछले पांच वर्षों के कार्यकाल में देश में आर्थिक असमानता की खाई बढ़ी है। इससे धन और विकास कुछ मुठ्ठी भर धनकुबेरों के हाथ में सिमट गया है। इस बजट से देश में लम्बे समय से जारी जर्बदस्त महंगाई, गरीबी, अशिक्षा और बेरोजगारी की समस्या समाप्त नहीं हो सकती है।

-स्मृति ईरानी ने कहा है कि इस बेहतरीन बजट में समाज के सभी वर्गों का ख्याल किया गया है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में दी गईं सुविधाएं दुनिया की सबसे अच्छी स्वास्थ्य स्कीम है। मोदी सरकार ने गरीबों और किसानों की आय बढ़ाने के लिए जो फार्मूला पेश किया है उसके लिए मैं सरकार को बधाई देती हूं।

-नीतीश कुमार ने कहा है कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में सबसे अच्छी बात है कि 10 करोड़ परिवार को चिकित्सा के क्षेत्र में पांच लाख रुपए की मदद दी जाएगी। बजट में हर वर्ग का ख्याल रखा गया है।

-मनीष तिवारी ने कहा है कि यह लोकलुभावना बजट है। मोदी सरकार ने किसानों और समाज के अन्य हाशिए वाले वर्गों को लॉलीपॉप देने का प्रयास किया है।

ये भी पढ़ें…बजट पर जमकर झूमा PM मोदी का संसदीय क्षेत्र, व्यापारियों ने कहा- वेलडन