गुरूवार को काश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में महेश की शहादत की खबर पहुंची तो जहां परिजनों में कोहराम मच गया तो वहीं गांव समेत पूरे जनपद में शोक की लहर दौड़ गई।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि भारत के सैनिक किसी संत से कम नहीं है। हमारी सीमाओं पर सैनिक हैं तो हमारी सीमायें सुरक्षित है; सैनिक है तो हम हैं, हमारा अस्तित्व है इसी वजह से आज हम जिंदा है और हमारा देश भी जिंदा है। सैनिक अपनी जान को हथेली पर रखकर अपने देश की रक्षा करते हैं। सियाचिन ग्लेशियर जैसे स्थानों पर रहकर अपने राष्ट्र को सुरक्षित रखते है।

जिला अस्पताल में रेंग रेंगकर इधर से उधर जाती इस बुजुर्ग महिला को अपना नाम  नहीं पता है। ये भी नहीं पता कि वह कहां से आई है। तन पर फटे पुराने गंदे कपड़े पहने बुजुर्ग विक्षिप्त महिला को कोई देखने वाला नहीं है। ठंड से बचने के लिए कभी इमर्जेंसी वार्ड में  एक कोने पर लेट जाती तो कभी एक गंदे कंबल को आधा जमीन पर बिछाती और आधे कंबल को ठंड से बचने के लिए ओढ़ लेती है।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा क्षेत्र में कल हुई आतंकी घटना के शोक में आज विधानसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गयी। इससे पहले सत्ता पक्ष और विपक्ष की तरफ से शहीदों को श्रद्धाजंलि देकर, दो मिनट का मौन रखा गया।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार शाम को हुए आतंकी हमले में यूपी के महराजगंज के पंकज त्रिपाठी भी शहीद हो गए है। शहादत की खबर मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया। फरेन्दा थाना क्षेत्र के हरपुर गांव के टोला बेलहिया निवासी ओमप्रकाश त्रिपाठी के दो बेटों में पंकज त्रिपाठी बड़े थे।

पुलवामा में सीआपीएफ़ पर हुए आतंकी हमले में कानपुर के प्रदीप यादव शहीद हो गए। गुरुवार देर रात परिजनों को जब प्रदीप की शहादत की खबर मिली तो परिवार में कोहराम मच गया। प्रदीप की शहादत से पूरा शहर शोक में डूबा है। वहीं शहीद की पत्नी को अभी भी यकीन नहीं है कि प्रदीप आतंकी हमले के शिकार हुए है।

पुलवामा की आतंकी घटना के शोक में यूपी विधानसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित हो गई। सत्ता पक्ष और विपक्ष ने शहीदों को अपनी श्रद्धांजलि दी। सदन में 2 मिनट का मौन रखा गया।प्रदेश सरकार ने प्रदेश के 12 शहीदों को 25-25 लाख के अनुग्रह राशि की घोषणा की है।