गुरुवार को ब्रह्म मुहूर्त में करें ये काम मिलेगा, मिलेगा अन्न,धन सम्मान

0
512

जयपुर: गुरुवार के दिन गुरु और भगवान विष्णु को समर्पित है। यह दिन कई प्रकार से किसी व्यक्ति के जीवन की परेशानियां दूर करने में सहायक है। ये दिन लक्ष्मी प्राप्ति में भी सहायक है। जो लोग इस दिन का व्रत करते हैं। उनके सभी कार्य भगवान बृहस्पति की कृपा से पूर्ण होते हैं।

यह भी पढ़ें…इस वक्त करेंगे हनुमान चालीसा का पाठ, हो जाएंगे नकारात्मक प्रभाव से मुक्त

गुरुवार का व्रत हर कोई कर सकता है यदि वह सच्चे मन से करना चाहे तो इस व्रत में किसी भी प्रकार का खर्च नहीं होता।यहां तक की इस व्रत में यदि आप भगवान विष्णु को भोग लगाने के लिए लड्डू भी लाने में सक्षम नहीं हैं तो उन्हें श्रद्धा से चने की दाल और चीनी या मिश्री का भोग लगा दें।  केले के पेड़ में प्रत्येक गुरुवार जल दें व उसकी पूजा करें। गुरुवार के दिन सुबह-सवेरे जल्दी उठें। ब्रह्म मुहूर्त में उठकर अपने घर की साफ-सफाई करें। इसके बाद स्नानादि से निवृत्त होकर पीले रंग के वस्त्र धारण करें।घर के मंदिर अथवा बाहर किसी मंदिर में बृहस्पति देव की प्रतिमा या तस्वीर को स्वच्छ कपड़ें से साफ करें। तत्पश्चात उनके माथे पर हल्दी का तिलक लगाएं और भोग स्वरूप चने की दाल व मिश्री अर्पित करेँ।  यदि आप भगवान बृहस्पति को अत्याधिक प्रसन्न करना चाहते हैं तो उन्हें एक तुलसी का पत्ता भएंट स्वरूप चढ़ाएं।
यह भी पढ़ें…मान्यता: गुरुवार को क्यों नहीं धुलते हैं बाल, क्या जानते हैं आप?

 फायदे
घर में सुख समृद्धि बनी रहती है। कलह-कलेष दूर रहता है।धन व अन्न की कभी कमी नहीं रहती। नौकरी हो या प्रमोशन कोई भी कार्य नहीं रुकता, तरक्की ही तरक्की मिलती।कुंडली में गुरू मजबूत होता है जिससे की व्यक्ति के सभी कार्य पूरे होते चले जाते हैं।